शनिवार, 26 नवंबर 2011

नहीं चाहती .......

नहीं चाहती जो सपने देखूं शीशे के 
तो उन्हें न पत्थर की चोट मिले
राह कठिन है जीवन की माना ये  
 नहीं चाहती पदचिन्हों का साथ मिले 
धरती सी उर्वर देह मेरी 
नहीं चाहती तुम्हारे स्नेह का बीज मिले
 नहीं चाहती प्रेम करूँ तो 
मुझे न विरह की आग मिले 
रूठे हो जो मुझसे तुम 
नहीं चाहती मनुहार करूँ तो  
मुझे न तुम्हारा इंकार मिले 
दुःख की परछाई जब पीछे हो
शोक की घंटियाँ घंटियाँ बजती हों कानों में 
नहीं चाहती शब्दों का अपनापा और 
उम्मीदों का मुझे बोझ मिले 
तन्हाई सच्ची साथी हो जाती है 
नहीं चाहती तुम्हारे आलिंगन की ओट मिले                                     -संध्या यादव

14 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन शब्द समायोजन..... भावपूर्ण अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  2. तन्हाई सच्ची साथी हो जाती है
    नहीं चाहती तुम्हारे आलिंगन की ओट मिले

    बहुत खूब...सुंदर भावाभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल 28/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. संध्या जी,...
    बहुत बढ़िया रचना,....सुंदर पोस्ट,..
    मेरे पोस्ट 'शब्द'में आपका इंतजार है,....

    उत्तर देंहटाएं