शुक्रवार, 16 अगस्त 2013

मेरी कुछ हायकू रचनायें


बंद कर दी
डिबिया रंगों की? जान
थी उसमें
-------------

पकड़ लाये
थे, जो तितली तुम
मैंने उड़ा दी
-----------------

आसमान ले
जाओ अपना लौटा दो
मेरी ज़मीन
---------------

जानते तो थे
अब बताओ कहाँ
रखूं उदासी
-------------

तुम गये तो
कमरा भर सांसें
उलझ गयीं
-------------

मिलन! क्षण
विदा से पहले के
आसान नहीं
------------

गुपचुप ना
आया करो, सोचेगी
क्या तन्हाई
-----------

आज ख़ुशी से
गले मिला, रीता जो
स्मृतिचिह्न
------------

सीमाएं देश
तो चलूँ? चौखट है
अपनी वहां
-------------

फड़फड़ाये
पंख, उड़ा जो, टोबा
टेक सिंह था
------------

लड़ मरेंगे
ज़िंदा है धर्म, मुल्क़
मरता रहा
--------------

क़िसान क़र्ज
श्रद्धांजलि में, मैंने
आज़ादी लिखी
------------
............................संध्या





















-























































































































































































































































































































1 टिप्पणी:

  1. आपकी यह पोस्ट आज के (शुक्रवार, ११ अप्रैल, २०१४) ब्लॉग बुलेटिन - मसालेदार बुलेटिन पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    उत्तर देंहटाएं