गुरुवार, 28 फ़रवरी 2013

जो बिन बात के पड़ जायें गले

तार्रुफ़ किया करते हैं उनसे

फ़क़त दुआ- सलाम से

सफ़र जारी है बदस्तूर गोया

नये शहर में पतंगें भी
उड़ाते हैं

हवाओं की साँठ- गाँठ से

-संध्या

1 टिप्पणी:

  1. बहुत शानदार और लाजवाब!!! आभार
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं